Udhed Deta Hai Jab Jamaana Mere Jazbaaton Ko Life Shayari,


 उधेड़ देता है जब जमाना मेरे जज़्बातों को …

मैं कलम से अपने हालात रफू कर लेती हूं !!!


आज तुम ठहर जाओ

वक़्त को जाने दो..



जो तुमसे तुम्हे ही गिड़गिड़ा कर मांगा रहा था, 

वो लड़का लाडला था अपने घर का..❤️



मुझ को पाना है तो मुझ मे उतरकर देखो,

यूँ किनारो से समंदर को देखा नही जाता ।



आओ किसी शब मुझे टूट के बिखरता देखो,

मेरी रगों में ज़हर जुदाई का उतरता देखो,

किन किन अदाओं से तुम्हें माँगा है खुदा से,

आओ कभी मुझे सजदों में सिसकता देखो!!



बिछड़ कर मुझसे वो , कुछ यूँ गया था ,

जैसे सदियों तक वो ना वापस लौटेगा …

एक तन्हा रात क्या आयी , 

उसे हमारी जरूरत आन पड़ी…



कत्ल कर या कर इश्क

मुकम्मल हमसे,

दोनों ही सूरत में तेरे

नाम से फना होना है हमको..



सरे-बाज़ार निकलूं तो आवारगी की तोहमत..!

तन्हाई में बैठूं तो इल्ज़ाम-ए-मुहब्बत..!



वो छुपती हैं मुझसे,

इतना भी नही समझती की,

की वो कभी जुदा होती ही नही मेरे दिलसे।


तड़प रहे है हम तेरे एक अल्फाज के लिए

तोड़ दे अपनी ख़ामोशी हमें जिन्दा रखने के लिए😔😔



“इस छोटे से दिल में, किस किस को जगह दूँ मैं….!!!!
“गम रहे.. दर्द रहे.. फरियाद रहे.. या..तेरी याद रहे….



रब ना करे इश्क़ की कमी,
 किसी को सताये… 
प्यार करो उसी से,
 जो तुम्हे दिल की हर बात बताये…




पास   बुलाने   का   अच्छा   बहाना   ढूंढते   हैं..!!
कहते   हैं,  कि… हमें   दूर   का   दिखाई   नहीं   देता….!!!




ए जिन्दगी या तो वो शख्स दे दे मुझे,
या फिर इतना ही कर की बक्श दे मुझे !!



क्यु नाराज़ होते हो… 
मेरी इन  नादान हरकतों से…. 
कुछ दिन की जिन्दगी है…. 
फिर  चले  जायेंगे हम… 
 आपके इस जहाँ से..



निगाहें कुछ इस क़दर 
मशरूफ़ रहीं तुम्हारे दीदार में,
उम्रभर आगरा में रहकर भी हमने ताजमहल नहीं देखा ।



मै बताऊं तुम्हें वफादार लड़की की निशानी,

वो वक्त मांगेगी दौलत नही….




“गिड़गिड़ाकर उसको उससे ही माँगा था,

और उसने हमें ज़रूरतमंद का दर्जा दे दिया।”



वो पागल दीवाना किसी का, 
मैं पगली, दिवानी उसी की..


कभी एड़ियां उठानी नहीं पड़ेंगी तुम्हे,
मैं तुम्हारे हर बोसे पर झुक जाऊंगा।।



अपने लफ़्ज़ों में तेरी झलक देखना शायद मेरी आदत हैं,
उन लफ्जों में तेरा ज़िक्र होना शायद यहीं इबादत हैं।



नजरों ही नजरों में अनकही बात हो 
जाती है,🙈
तेरा ख्याल आते ही चेहरे पे मुस्कान आ जाती है,☺️
इस वक्त नहीं मिल सकते तो क्या हुआ,😒
तुमसे तो सपनों में ही मुलाकात हो जाती है।😍



️शायरियाँ पूरी लिख दी पर कोई नाम ना दिया..
उन्होंने भी पढ़कर वाह वाह की पर कोई पैगाम ना दिया..




“मुस्कुराना”  तो  हमारी “आदत” है जनाब…
हम “उदासियों”को कभी”मुँह” नहीं लगाते..



लालच देकर हासिल करने वाले बहुत मिल जाएंगे..

बात इतनी सी है के ये दिल नायाब बहुत है…!!



तुम अपने प्रेम को 
अधूरा ही रखना..!!

कहीं ना कहीं पूर्णता में 
अंत छिपा रहता है…!!!



बोलने पर लगा कर पाबन्दी…!! 

उसने मुझे लिखना सिखा दिया ..!!



कभी तुम्हारी याद आती है …
कभी तुम्हारे ख्वाब आते हैं …

मुझे सताने के तरीके तुम्हे बेहिसाब आते हैं !!!!! 




वो जिस पर उसकी रहमत हो वो दौलत मांगता है क्या,
मोहब्बत करने वाला दिल मोहब्बत मांगता है क्या !

तुम्हारा दिल कहे जब भी उजाला बन के आ जाना,
कभी उगता हुआ सूरज इज़ाज़त मांगता है क्या !



बड़े कठिन है मोहब्बत के रास्ते….
बार-बार जन्म लेकर आई सती शिव के वास्ते..



ना वो, हमसे कहते हैं, ना हम, उनसे कहते हैं, 
पर दोनों के दिलों में दोनों रहते हैं…!!!



उन्हें शब्दों में लिखना आसान नहीं,
वो मेरा हिस्सा है दास्तान नहीं।

Leave a Comment