भूलने का तो सवाल ही पैदा नहीं

 

भूलने का तो सवाल ही पैदा नहीं होता,
मैंने नहीं मेरे दिल ने चुना है तुम्हें।





लबों के पीछे कुछ लब्ज उनके पास भी है 
हाँ मुझे मालूम है जुदा होने का ग़म उसे भी है 🖤

Leave a Comment